Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Gulab Jain

Action


2  

Gulab Jain

Action


वतन की ख़ातिर...

वतन की ख़ातिर...

1 min 140 1 min 140

क़ुर्बान हो गए वो, अपने वतन की ख़ातिर |

हँस-हँस के सो गए वो, अपने वतन की ख़ातिर |

उनको नमन करें हम श्रद्धा से सिर झुका कर,

हम में भी जज़्बा हो वो, अपने वतन की ख़ातिर |

                         


Rate this content
Log in

More hindi poem from Gulab Jain

Similar hindi poem from Action