Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

parag mehta

Abstract


5.0  

parag mehta

Abstract


तू मुझे!

तू मुझे!

1 min 204 1 min 204

अगर मुझसे इश्क़ करना मजबूरी है तेरी !

तो ये मजबूरी मंजूर नहीं है मुझे !


अगर मुझे याद करना पसंद नहीं तुझे

तो नापसंद ही रहने देना तू फिर मुझे !


अगर तुझे मेरी बात का ज़िक्र नहीं करना !

तो नजरअंदाज ही कर देना तू मुझे !


अगर मैं ही हूं तेरी हर हार की वजह !

तो जीत से महरूम ही रहने दे तू मुझे !


अगर मेरी मौजदगी नहीं चाहिए अब तुझे !

तो खुद से जुदा ही रख तू अब मुझे !


और अगर अब मैं नहीं तेरी किसी फेहरिस्त में !

तो फिर खुद में ही मशगूल रहने दे तू अब मुझे !


Rate this content
Log in

More hindi poem from parag mehta

Similar hindi poem from Abstract