Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!
Buy Books worth Rs 500/- & Get 1 Book Free! Click Here!

Pawanesh Thakurathi

Romance


4.3  

Pawanesh Thakurathi

Romance


त्रिज्या से व्यास बन गई हूँ

त्रिज्या से व्यास बन गई हूँ

1 min 478 1 min 478

हरी-भरी धरती थी

अब तो नीला आकाश बन गई हूँ

तेरे प्रेम में ओ पगले ! 

त्रिज्या से मैं व्यास बन गई हूँ। 


तू क्या जाने

मेरे जीवनवृत्त की

एकमात्र परिधि तू ही है

अब बावली होकर 

तेरे दिल की

आनी-जानी सांस बन गई हूँ


तेरे प्रेम में ओ पगले ! 

त्रिज्या से मैं व्यास बन गई हूँ। 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Pawanesh Thakurathi

Similar hindi poem from Romance