End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!
End of Summer Sale for children. Apply code SUMM100 at checkout!

Surendra kumar singh

Abstract


4  

Surendra kumar singh

Abstract


सफर में हैं

सफर में हैं

1 min 14 1 min 14

अनुभव के साथ सफर में हैं तो

लगता है कोई साथ साथ है

और जब वो आदमी की तरह

बोलने लगता है

तो आश्चर्य से


चारो तरफ नजरें घुमाते हैं

कि कौन कहाँ बोल रहा है

कोई हो तो न दिखे

फिर चल पड़ते हैं

और आवाजें आने लगती हैं


जो नहीं होना चाहिए

वो खूब हो रहा है

और जो होना चाहिये

वो होने के लिये मचल रहा है

जैसे भागते हुये समय में


कोई पल ठहर सा गया है

ये होना कितना सहजता से

सम्भव था

फिर अब तक हुआ क्यों नहीं।


शायद सहजता

असम्भव सी हो गयी है

या सहज होना

मनुष्य की जरूरत नहीं रही।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Surendra kumar singh

Similar hindi poem from Abstract