Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Prafulla Kumar Tripathi

Abstract

4  

Prafulla Kumar Tripathi

Abstract

शोभित सुन्दर

शोभित सुन्दर

1 min
118


शोभित  सुन्दर  बिहार हमारा ,

प्राणों से भी बढ़कर प्यारा।

मिथिला की इस पुन्य धरा का ,

गंगा ने भी पाँव पखारा।।

**

नए विश्व का यह उदगाता ,

शौर्य , गर्व और भागे विधाता।

संस्कृति का परकाहम लहराता ,

सदा सर्वदा सबको भाता ।।

***

चन्द्रगुप्त सा न्याय हमारा ,

वैशाली गणतन्त्र था न्यारा ।

पितरों का यह शान्ति प्रदाता ,

सत्याग्रह की राह दिखाता ।।

****

शान्ति- क्रान्ति का अद्भुत पारा ,

बोध गया से उठती धारा ।

समता लाई नया सबेरा ,

सुख - समृद्धि का पग - पग डेरा ।।

*****

बनेंगे अब हम विश्व में प्यारा  ,

मोडेंगे हम विश्व की धारा ।

जन - मन की आंखो का तारा ,

बिहार बनेगा सबसे न्यारा ।।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract