Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Jeevan singh Parihar

Inspirational

5.0  

Jeevan singh Parihar

Inspirational

राही

राही

1 min
409


बढ़ता चल मुसाफ़िर,

तू बढ़ता चल मुसाफ़िर।


मंज़िल भी मिल ही जाएगी,

तू मेहनत कर मुसाफ़िर।


खीचेंगें पैर तेरे लोग ,

तू जमकर चल मुसाफ़िर।


आएगी ढेरों समस्याएं ,

तू हल निकालता चल।


मत ओझल हो दूसरों की बातों से,

तू अपनी बातें सुन।


बढ़ता चल मुसाफ़िर,

तू बढ़ता चल मुसाफ़िर।



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational