Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

मनीष जौनपुरी

Abstract

4.0  

मनीष जौनपुरी

Abstract

पर्यावरण ..वृक्ष लगाओ वृक्ष बच

पर्यावरण ..वृक्ष लगाओ वृक्ष बच

1 min
56


वृक्ष गुणगान करो ।

 सदा तुम ध्यान धरो। 

 होगी जमीं खुशहाल,

 पादप लगाइए ।।


 धरती मां ने पाला है।

 आंचल में संभाला है।

 अति सुंदर काया में ,

 ममता जगाइए।।


 मिलता आनंद सुख।

 फल खाते मीठे मुख।

 छाया भरपूर होती,

 इसे ना सुखाइए।।


 लोग पूजा करते हैं ।

 आह सब भरते हैं ।

 काट इसे तुम जन,

 दिल ना दुखाए । ।


 घर सब भर देते।

 खुशबू अनेक देते ।

 खट्टे मीठे फलों संग,

 आनंद उठाइए।।


 विनती मेरी यह सब से।

 काटे ना कोई अब से।

 गली गली पर लगा,

 जीवन बसाइए।।


 रहते छाँव जिसकी ।

 बात भी मानो उसकी।

 सजा हित होगा तेरा ,

 सबको बताइए।।



Rate this content
Log in