Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Monika Raghuwanshi

Abstract


4.5  

Monika Raghuwanshi

Abstract


परिवर्तन

परिवर्तन

1 min 6 1 min 6

परिवर्तन है परिवर्तन है,

उठो देखो नवजीवन है,

अंकुर फूटें,धरा हुई हल्की,

ऐसा सुंदर सृष्टि सृजन है।


अम्बर भी चित्रकार बना,

पल पल वो अवचेतन है।

मेध कर रहे नृत्यक्रियाएँ,

इतना मधुर ये गुंजन है।


सरिता के उन्माद वेग से

जल-तरंग ध्वनि में गर्जन है।

लतायें है आज प्रफ़ुल्लित,

अलौकिक मन-रंजन है।


शून्य हुआ जीवन का तम,

ऐसा दीप्त समापन है।

पावस का स्नेह निमंत्रण,

मोहक और मनभावन है।


नित्य ये करते उद्घोषित,

जो जीवन का आवर्तन है।

धवलित है ये तृणमय भूमि

ऐसा सुंदर सृष्टि सृजन है!


Rate this content
Log in

More hindi poem from Monika Raghuwanshi

Similar hindi poem from Abstract