Read On the Go with our Latest e-Books. Click here
Read On the Go with our Latest e-Books. Click here

Aarti Ayachit

Inspirational


3  

Aarti Ayachit

Inspirational


"मंशा संस्तुति"

"मंशा संस्तुति"

1 min 312 1 min 312

वीर शहीद की पत्नी कर रही इंसाफ की गुहार

वीरांगना रूप में ठान ली उसने बनेगी पालनहार


आज पुलवामा बलिदान की बरसी है पहली

गुलाब के फूल अर्पित कर नमन है वीर जवानों को

शहादत की मौजूदगी मन में गूंजते हुए दहली


यूं तो मैंने लाखों लोगों को मरते देखा है प्रतिदिन

वतन पर जान न्यौछावर करने वाले हर शख्स पर आमीन


खून का कतरा कतरा बहा दिया हंसते-हंसते वतन के वास्ते

बिना शिकन एक बूंद तक न बचाई अपने तन के वास्ते


रूह भी मेरी इस धरती पर ललकार रही

अपने देश की बन मशाल मंशा संस्तुति कर रही।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Aarti Ayachit

Similar hindi poem from Inspirational