Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

मानव का बल

मानव का बल

1 min 181 1 min 181

आकाश कब ये नीचे आया

हमने ही था इस पर

अपना परचम लहराया

पर्वत भी कहाँ झुका था

फिर भी मस्तक पर हमने

उसके अपने पैरों के निशां बनाया

पानी भी तो मद- मस्त हो बह रहा था                              

हमने ही उसे मनचाही राह बहाया

इतनी क्षमता , इतना बल है

उसके आगे सब कुछ निर्बल है

सतत कल्पना , अथक परिश्रम

उसी का तो ये सब फल है

अविराम चिंतन , द्रढ़ लगन

यह तो सभी समस्या का हल है

आत्म विश्वास ,अनंत धीरता

फिर तो हर कठिनाई सरल है

त्याग , सत्य ,प्रेम , करुणा

यही तो मानव का बल है


Rate this content
Log in

More hindi poem from Vikas Sharma

Similar hindi poem from Abstract