Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

Arya Vijay Saxena

Abstract Classics Inspirational


4.5  

Arya Vijay Saxena

Abstract Classics Inspirational


🌹माँ🌹

🌹माँ🌹

1 min 177 1 min 177

किन अल्फाज़ से ओ माँ, 

तेरी  ममता  का  बखान  करूँ l

किन शब्द से ओ माता, 

तेरे  त्याग  का  गुणगान  करूँ l


किस धुन से ओ प्यारी माँ, 

तेरी   महिमा   का   गान   करूँ l

कैसे अपने कलुषित मन से, 

तेरे निस्वार्थ प्रेम का मान करूँ l


कैसे ममता का मोल चुकाऊं, 

क्या तुझ पर माँ, बलिदान करूँ l

थोड़ी सी भी खुशियाँ दे सके, 

माता, क्या मैं वो सब काम करूँ l


तेरी ही बदौलत है जीवन मेरा, 

अपनी हर साँस तेरे नाम करूँ l

तेरी एक मुस्कान के लिए अब, 

जतन वो अब मैं तमाम  करूँ l


माँ, तुझ पर बलिहारी जाऊँ, 

सौ जन्म तुझ पर कुर्बान करूँ l

हर लम्हा, हर पल, हर क्षण, 

माँ, मैं तो तेरा ही ध्यान करूँ l


ना जानू मैं तो उस खुदा को, 

आराधना तेरी सुबह शाम करूँ l

तेरे जैसी सभी माताओ को, 

मैं   तो   दंडवत   प्रणाम  करूँ l


:-✍️Arya Vijay Saxena

...................................... 


Rate this content
Log in

More hindi poem from Arya Vijay Saxena

Similar hindi poem from Abstract