Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

बृज व्यास

Abstract


3  

बृज व्यास

Abstract


" जल की महिमा " !!

" जल की महिमा " !!

1 min 332 1 min 332

जल में कुंभ कुंभ में जल है

बाहर भीतर पानी !

जल है तो जीवन है जानो

वरना खतम कहानी !


बून्द बून्द से घट भरता है

घट से बुझती प्यास !

जल से ही जीवन चलता है

जल की सबको आस !

देव पितर भी चाहें तर्पण

गुण गावें सब ज्ञानी !


सूने पनघट रीती गागर

कब आते हैं रास !

रेत के टीले मृगतृष्णा से

करते हैं उपहास !

जल बिन सब कुछ सूना सूना

सूनी सी जिंदगानी !


जल से ही सब नूर यहाँ पर

वरना क्या रखा है !

अगर ईरादे जल बदले तो

कहें हठी ठगा है !

अपव्यय को हम रोक न पाये

संचय की ना ठानी !


Rate this content
Log in

More hindi poem from बृज व्यास

Similar hindi poem from Abstract