Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

बृज व्यास

Inspirational


3  

बृज व्यास

Inspirational


कल को हमें बदलना होगा

कल को हमें बदलना होगा

1 min 290 1 min 290

एक दूजे को रहें कोसते 

यह तो कोई हल ना होगा !!


दहक रहे हैं दामन सबके

आखिर कब तक सहना होगा !

सूख रहे हैं बहते धारे,

इनको तो नित बहना होगा!

जंगल जंगल आग लगी है

कब तक इनको जलना होगा !!


बोया कम काटा ज्यादा है

भावी चिंता यहाँ किसे है !

सोना सोना पाया हमने

औ पारस को यहाँ घिसे हैं !

आग उगलती धरणी है अब

हाथ हमें भी मलना होगा !!


फैल रहा है आज प्रदूषण

यहाँ वहाँ बस धुआँ धुआँ है !

धुआँ उगलती यहाँ चिमनियाँ

धरती मैली, हरित कहाँ है !

अपने हाथ कुल्हाड़ी मारी

कदम फूंक अब चलना होगा !!


आग तपे है काया सिकुड़ी

पे , पीठ भी बेदम लगते !

मात शिशु औ युवा प्रौढ़ सब

घटती उम्र थके से लगते !

आज को जीना यदि लक्ष्य है

कल के लिए सँभलना होगा !!


हरा भरा जीवन सुहावना

हरियाली हो गोद धरा की !

नवल पौध हम रोपें सींचे

चूक न हो अब यहाँ ज़रा सी !

सधे सन्तुलन, हँसी प्रकृति

नयी सोच संग ढलना होगा !!


छाया होगी माया होगी

बरखा गिरे छमाछम होगी !

नदिया, कुएँ, तलैया, पोखर ,

पानी भरे, झमाझम होगी !

प्यासे प्यासे मरूथल न हों,

कल को हमें बदलना होगा !!



Rate this content
Log in

More hindi poem from बृज व्यास

Similar hindi poem from Inspirational