Read On the Go with our Latest e-Books. Click here
Read On the Go with our Latest e-Books. Click here

Dhan Pati Singh Kushwaha

Abstract Classics Inspirational


4  

Dhan Pati Singh Kushwaha

Abstract Classics Inspirational


जग आगमन सार्थक तभी

जग आगमन सार्थक तभी

1 min 263 1 min 263

जग आगमन सार्थक तभी,

श्रम करके कुछ करें सृजन।

उद्देश्य करके ही तो पूर्ण निज,

प्रभु चरणों में हम करें नमन।


वरदान प्रभु का है ये मनुज तन,

उत्कृष्ट योनि लख चौरासी में है।

भटकाएं न मन कहीं और हम,

दृष्टि हर कर्म तो अविनाशी में है।


पाया है सब कुछ जगत से ही तो,

अर्पण हो जग को ही तन और मन।

उद्देश्य करके ही तो पूर्ण निज,

प्रभु चरणों में हम करें नमन।


जग आगमन सार्थक तभी,

श्रम करके कुछ करें सृजन।

उद्देश्य करके ही तो पूर्ण निज,

प्रभु चरणों में हम करें नमन।


करना है करें रहते हुए शक्ति के,

है सशक्त जब तक तन और मन।

रह जाएगा पछतावा ही शेष बस,

गंवाया समय न कुछ किया सृजन।


करते रहें ऐसे सतत् ही प्रयास हम,

मंगल सबका हो और हों प्रसन्न जन।

उद्देश्य करके ही तो पूर्ण निज,

प्रभु चरणों में हम करें नमन।


जग आगमन सार्थक तभी,

श्रम करके कुछ करें सृजन।

उद्देश्य करके ही तो पूर्ण निज,

प्रभु चरणों में हम करें नमन।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dhan Pati Singh Kushwaha

Similar hindi poem from Abstract