Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Kumar Ritu Raj

Abstract

4.0  

Kumar Ritu Raj

Abstract

जब -जब

जब -जब

1 min
208


जब -जब मैं हारूं मन,

सूर्य दिल में किरण की आस दे तू।


जब -जब आँखों में आंसू हो,

बादल जल बरसा दे तू।


जब -जब दिल ये टूटे मेरे,

पंछी गीत सुना दे तू।


जब -जब कदम मेरे लड़खड़ाए,

धरती भूकंप ला दे तू।


जब -जब नेत्र मैं खोलू,

हे वृक्ष हरियाली दिखा दे तू।


जब - जब घमंड मुझ में आए तो,

हे पर्वत शीश दिखा दे तू।


जब - जब हैं चोटिल हूं,

एक खुदा यह दर्द भुला दे तू।


जब -जब मैं गलती करूं,

अपने गले लगा ले तू।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract