Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Pratibha Shrivastava Ansh

Inspirational

1  

Pratibha Shrivastava Ansh

Inspirational

इश्क

इश्क

1 min
171


अगर इश्क करना ही है तो,

अपने वतन से करना

इसकी माटी से निकलती,

खुश्बू को शिद्दत से महसूस करना

बांधना ही है गर रक्षा-कवच तो,

सरहद पर तैनात उन भाइयों को बांधना,

जो सिर्फ तुम्हारे लिए,

रोज ही होली खेलता...


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational