Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.
Read #1 book on Hinduism and enhance your understanding of ancient Indian history.

Pankaj Kumar

Abstract


3  

Pankaj Kumar

Abstract


घर से दूर

घर से दूर

1 min 256 1 min 256

अपना शहर अनजाना हो गया 

चाव से बनाया था जो आशियाना 

जैसे की मुसाफिरखाना हो गया 

आते हैं कभी कभी

रुकते हैं कभी कभी 

परदेस में जब से आना जाना हो गया।

 

गलियां, सड़कें बदल गयी 

मोहल्ले, सब बाजार बदल गए 

अक्सर मिल जाते थे नुक्कड़ पर 

अपने वो सब यार भी बदल गए 

सब इधर उधर हो गए 

कुछ अपने में यूँ खो गए 

कुछ आज भी वही रहते हैं

घर से दूर जो गए 

बस दूर के ही हो गए

 

मैं भी आया हूँ काफी देर बाद 

बीते लम्हे आते हैं याद 

अरसा कितना बीत गया 

काफी कुछ बदल गया 

पर महक वैसी ही है 

चहक वैसी ही है 

शहर की रौनक तो 

पहले जैसी ही है।

 

बस जाना पहचाना ये चेहरा 

धीरे धीरे अनजाना हो गया 

घर अपना ही बेगाना हो गया 

परदेस में जब से आना जाना हो गया

परदेस में जब से आना जाना हो गया।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Pankaj Kumar

Similar hindi poem from Abstract