Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

बीमारी या बहाना

बीमारी या बहाना

1 min
217


बीमार पड़ना कोई चाहता नहीं

डाक्टर की जेब भरना कोई मांगता नहीं

दवा दारू की इच्छा कोई करता नहीं

बेड पर सोये रहना कोई चाहता नहीं


बहाने फिर भी मिल जाये हजारों 

बीमारी का बहाना रास आता नहीं

सच्ची बीमारी से कौन चुका है

बहाना वक़्त बदलते झूठा है 


मन मे विचार सच्चे लाऊं

तन को सेहतमंद बनाऊं

क्यों झूठमूठ बीमार पडूं

क्यों खुद की नजर में पडूं


रुकती है जिंदगी बीमार पड़ने से

थमती है प्रगति बीमार होने से 

आलस प्रगति रोधक है

बहाना कहाँ से बोधक है


मैं जानता हूँ, आप भी जानो

अपने आपको पहचानो

योग, वर्जिस से बनो तंदुरुस्त

खुद खुश रहो, दूसरों को रखो खुश



Rate this content
Log in