Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Shyam Kunvar Bharti

Romance

3  

Shyam Kunvar Bharti

Romance

भोजपुरी पूर्वी लोक गीत- कररवा

भोजपुरी पूर्वी लोक गीत- कररवा

1 min
311



कई के कररवा ये रजऊ

करेजा काहे काढ़ी हो गईला

पलटी के ना देखला ये करेजउ

धोखा मे हमके डाली हो गईला

बोला बोला ये बेईमनवा

कईला काहे करेजवा कठोर

देखाई के हमके सपनवा

बीच भवरा छोड़ी हो गईला

कई के कररवा ये रजऊ

सुना सुना ये घटिहउ

छतिया फाटेला हमार

पकड़ी के हमरो कलईया

छोड़ी हमरा तू छलिया हो भईला

कई के कररवा ये रजऊ

आवा आवा हमरे लगवा आवा

माना ना बतिया हमार

भरी अंकवारिया हो हमके

प्यार हमके खाली हो कईला

कई के कररवा ये रजऊ

करेजा काहे काढ़ी हो गईला



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Romance