Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

Baman Chandra Dixit

Inspirational


3  

Baman Chandra Dixit

Inspirational


भारत हूँ मैं

भारत हूँ मैं

1 min 198 1 min 198

आफ़ियत कोश हूँ मगर 

आफ़त है हमराही मेरी

शराफ़त पसंद मिज़ाज़ की

बदमाशियों से बैरी।

पर इतना भी नासमझ हमे

ना समझ ऐ होशियार

ठान लूँ तो मिटा दूँगा अभी

नामोनिशाँ तेरी।।


ठान लेता हूँ जो, जब, जहाँ

कर दिखाता हूँ मैं

देश के लिये मर सकता तो

मार भी सकता हूँ मैं।

गिदड़ की मौत मरोगे जल्द

ना भागो शहर के ओर

चिर फाड़ दूंगा अंतड़ियाँ तेरी

नरसिंहा बन जाऊँगा मैं।।


इम्तिहाँ ना लो धैर्य की मेरी

ये बिगड़ैल स्थान

बहुत कर चुके हो गुस्ताखी

और ना बनो नादान

सबक सिखाऊंगा तुझको

भूल ना पाओगे कभी

बदल दूँगा नाम तेरी मुल्क का

जल्द ही क़ब्रिस्तान।।


धुआँ धुआँ सा जो दिखता

सुलगता अंगार है ये,

दहक उठेगा ज़रूर ये आग

प्रलय का फूत्कार है ये

भारत हूँ मैं भारी हूँ तुझ पे

हर पल हर जगह

जल थल या गगन जहाँ भी

चाहे तो आजमा ले।।


छत्तीस छप्पन की आंकड़े में

ना बहको पाकिस्तान

कहाँ से कहाँ तक नापोगे

व्याप्त हूँ विश्व तमाम।

गाड़ दिया हूँ पैर आज मैं

बजरंग बली की तरह

उखाड़ सको तो उखाड़ दिखा

गर है तू बलवान।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Baman Chandra Dixit

Similar hindi poem from Inspirational