Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Nalanda Wankhede

Abstract Romance Action

3  

Nalanda Wankhede

Abstract Romance Action

बैरी चाँद

बैरी चाँद

1 min
277



इश्क के आशियाने मे बसता था मगरुर माहताब 

ताऊम्र जिसे संभालकर रखा वही चाँद मेरा बैरी निकला 


दर्द की परते खुल खुलकर बिखर गयी

पैमाने मे मेरी वह छलकता हुआ निकला 


काली रातो के अंधेरो ने छीन लिया सबकुछ

रोशनी से घर अपना जलाकर निकला 


चाँद से चेहरे ने झुलसाया इस कदर

रात आते ही भागा भागा सा निकला 


सदियाँ गुजर गयी इन्तज़ार में चाँद के 

बेतहाशा मगर वह अपने समय से निकला


सितारो की महफिल से चाँद था नदारद 

आहिस्ता आहिस्ता अपनी ओट से निकला


थक गया था चाँद अपनी ही तलाश में

बेफिक्र होकर दयरो हरम के पीछे से निकला।


Rate this content
Log in