Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

PRADYUMNA AROTHIYA

Children


4.2  

PRADYUMNA AROTHIYA

Children


अपना बचपन

अपना बचपन

1 min 32 1 min 32

दो कमरों के घर में

बीता अपना बचपन,

यादें देकर

अपनी खट्टी-मीठी

कहाँ खो गया अपना बचपन,

फिरते गलियों में 

आवारा परिंदों से

नई पहचान खोजने

घूमा करता अपना बचपन,

माँ कहती

घर जल्दी आना

देर हुई तो डांट पड़ेगी

फिर न कोई 

झूठी बात चलेगी

पर गलियों की मंडलियों में

रोज घूमता अपना बचपन,

भूख लगी तो

घर वापिस आयें

यही रोज हम दोहरायें

पर दरवाजे पर बैठी माँ

राह ही तकती

न जाने क्यूँ 

यह समझ न पाया

अपना बचपन,

जब बच्चे घर पढ़ने आते

बाबूजी का चश्मा

कहाँ गुम हो जाता

मालूम नहीं कहाँ छुप जाता

उसे खोजने दीवानों सा

फिरता अपना बचपन,

बाबूजी हमको भी

रोज पढ़ाते

किसी न किसी बात पर 

डांट खाते

पर किताबी भाषा 

समझ न पाता

कहीं तस्वीरों में खो जाता

मासूम ख्यालों का

अपना बचपन,

अपनों से लड़कर

अपनों के ही पीछे चले जाते

भाई से भाई बनकर

घर वापिस आते

नादानी में हम

न जाने क्या कर जाते

वहीं खेलते- वहीं लड़ते

वहीं एक हो जाते

पर कुछ भी तो न समझ पाया

छोटा-सा अपना बचपन,

वो फिल्मों का शौक 

घर से बहुत दूर ले जाता

कभी अमिताभ 

कभी धर्मेंद्र का अक्स दिखता

उन्हीं ख्यालों में

अभिनय करता अपना बचपन,

न कोई दुःख

न कोई उदासी

अपने ही ख्यालों में जीता

बड़ा ही खुशनसीब था

अपना बचपन,

वक़्त की धारा में

न जाने कहाँ खो गया

मासूम ख्यालों वाला

अपना बचपन ?



Rate this content
Log in