Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Poonam Mishra

Classics

3.5  

Poonam Mishra

Classics

ऐ जिंदगी

ऐ जिंदगी

1 min
289


अजीब फलसफा है !

ऐ जिदंगी तेरा भी,

जब तक हम समझते,

तू गुजर जाती !


रहे लड़ते जीवन भर

तेरे लिए,

जब तक समझते 

दस्तूर -ए- जिदंगी,

तब तक तू गुजर जाती।


एक अजीब कशिश है,

तेरे अंदर ए -जिंदगी,

जब तक इश्क होता तुझसे,

तब तक तू गुजर जाती।


शिकायत करते रहे,

तुझसे ऐ जिंदगी,

जब तक मनाते तुझे,

तब तक तू गुजर जाती जिंदगी।


तेरी हर बात हम सुनते रहे,

जब तुझसे कुछ कहते 

दस्तुर -ए जिंदगी, 

तब तक तू गुजर जाती 


अजीब फलसफे है 

 तेरे ए जिंदगी !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Classics