Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

अच्छा औऱ बुरा वक़्त... !

अच्छा औऱ बुरा वक़्त... !

1 min 305 1 min 305

हमारी ज़िन्दगी में हमेशा

दो तरह के वक़्त

आते है,

एक अच्छा औऱ दूसरा बुरा वक़्त !


दोनों एक सिक्के के दो

पहलू है,

जहाँ अच्छाई है वही बुराई भी

घर बनाये बैठी है !


अच्छे वक़्त में हम

काफ़ी प्रसन्नता सी फीलिंग करते है,

औऱ बुरे वक़्त में आँखों में

आँसू आ जाते है!


ऐसे हालात में हमें

ज्यादा से ज्यादा

ख़ुश रहना है तो

हमें दिल से भी ख़ुश रहना पड़ेगा !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Rajit ram Ranjan

Similar hindi poem from Inspirational