Audio

Forum

Read

Contests

Language


Write

Sign in
Wohoo!,
Dear user,
हार को न स्वीकार कर
हार को न स्वीकार कर
★★★★★

© Vijay Mishra

Inspirational

1 Minutes   13.7K    5


Content Ranking

जीत का इंतज़ार  कर 

डर हमेशा फैला ही रहेगा 

खुद से ही तू प्यार कर 

हार को न स्वीकार कर

जीत का इंतज़ार कर 

चलता रह तू हमेशा 

चाहे जितना हो टूटकर 

कर भरोसा अपने पर तू 

चाहे जाए साथी छोड़कर 

हार को न स्वीकार कर 

जीत का इंतज़ार कर

कामयाबी को तू पा सकेगा  

तिनका तिनका जोड़कर 

खिला सकेगा फूल तू 

हर रास्ते को मोड़कर 

हार को न स्वीकार कर 

जीत का इंतज़ार कर 

जिस दिन समझ लेगा तू 

अपनी ये जिंदगी का सार 

मुट्ठी में होगी कामयाबी

साथ होगा सारा संसार 

हार को न स्वीकार कर 

जीत का इंतज़ार कर 

     

डर भरोसा रास्ते

Rate the content


Originality
Flow
Language
Cover design

Comments

Post

Some text some message..