Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra
Participate in the 3rd Season of STORYMIRROR SCHOOLS WRITING COMPETITION - the BIGGEST Writing Competition in India for School Students & Teachers and win a 2N/3D holiday trip from Club Mahindra

वादा मेरा वादा

वादा मेरा वादा

3 mins 528 3 mins 528

तिथि 16/01/2019 मेरे जीवन में, विशेष मायने रखती है। मैं दांतों के दर्द से, बहुत परेशान रहता था। उसी दौरान आवश्यक कार्य से,मेरा बेंगलोर (कर्नाटक)पुत्र के यहां जाना हो गया।

हमारे सर्जन पुत्र ने कहा 'पापाजी हास्पीटल में, दांतों के सर्जन बहुत काबिल हैं, बाहर से भी पेशेंट आते हैं। अपना चैकअप करवाने के लिए। आपका दांत भी चैक करवा लेते हैं, सर्जन हमारे मित्र हैं। आपका ट्रीटमेंट करवाने, मैंने उनका समय ले लिया है। आप कल सुबह मेरे साथ ही हास्पीटल चलिए।"

संयोग से पत्नि भी साथ ही थी।उन्होंने भी अपनी सहमति देते हुए कहा कि "आप हास्पीटल चले जाईये।पुत्र भी उसी हास्पीटल में है।उचित इलाज हो जायेगा। आपको दांतों के दर्द से छुटकारा भी मिल जायेगा।"

मैंने विचार किया कि दांतों में तकलीफ बहुत दिनों से झेल रहा हूँ। इलाज करवाना अब जरूरी हो गया है। मैंने भी अपनी सहमति दे दी।

सुबह मेरे दांतों का इलाज प्रारम्भ किया गया।डाक्टर ने मुझसे कहा "आपकी उम्र कितनी है। "मैने कहा "मेरी उम्र 64वर्ष है।"डाक्टर ने दांतों और मसूडों को चैक किया, एक्सरे निकलवाया ।अन्य उपकरणों की मदद से निरीक्षण किया और हमारे डाक्टर पुत्र के सामने दांतों की रिपोर्ट डिस्कस करने लगे।

उनकी वार्तालाप तो मैं सुन रहा था, किन्तु मेरे समझ में कुछ भी नहीं आ रहा था। वे दोनों ही डाक्टर्स मैडिकल की भाषा में, बोल रहे थे।

दांतों के डाक्टर किसी काम से बाहर चले गये। हमार डाक्टर पुत्र ने मुझसे कहा "पापाजी आपके दांतों की पोजीशन क्लीयर हो चुकी है। आपके दो ऊपर के और दो नीचे के दांत निकालकर नये लगाने होंगे और ऊपर का एक मसूडा कमजोर है, उसे दवाओं से ठीक किया जायेगा। आप क्या कहते हैं। "

मैंने अपने पुत्र से कहा "बेटा दांतों के ट्रीटमेंट से मुझे डर लग रहा था। इसीलिए इलाज नहीं करवाया था। अब तुम्हें जो उचित लगे ,वैसा करो ताकि मुझे दर्द से आराम मिल सके।"

इस बीच डाक्टर वापस आ गये।उन्होंने मुझसे कहा "आपके एक मसूडे को हम दवा से ठीक करेंगे और ऊपर के दो और नीचे के दो दांतों को निकाल कर दूसरे दांत फिक्स वाले लगा देंगे। आपका क्या कहना है, बताइये।"

मैंने कहा "आप जैसा चाहते हैं, वह कीजिए। मेरे दांतों का दर्द समाप्त हो जाना चाहिए।"

डाक्टर ने कहा "वह सब हो जायेगा, आपको बस हमसे एक वादा करना होगा।"

मैंने कहा "कौन सा वादा करना होगा। मैं वादा करूंगा, आप बताइये तो।"

डाक्टर ने कहा "आपकी उम्र को देखते हुए, आपके दांतों की पोजीशन, ऐसी है कि दांतों को भविष्य में कोई तकलीफ नहीं हो और आप खाने पीने का मजा ले सकें, इसके लिए आपको पान छोड़ने का वादा करना होगा, वह भी हमेशा के लिए।"

मैं सोच में पड़ गया कि जिसके साथ इतने वर्षों का याराना था,उसे एकाएक कैसे छोड़ दिया जाएँ। मेरा दिल नहीं मान रहा था।

मेरे अंतर्मन में चल रहे द्वंद को डाक्टर की अनुभवी आँखों ने पहचान लिया था। डाक्टर ने मुझसे कहा "देखिए आप उम्र में मेरे पिता जैसे हैं। आपने उम्र भर पान का मजा लिया है। परन्तु अभी उसी पान ने आपके दांतों की यह अवस्था की है।आप डाक्टर सुमित के पिता हैं अतः मैं आपसे रिक्वेस्ट करता हूँ कि पान से दोस्ती अब समाप्त कर दीजिए। पान आपके मुंह में अब कैंसर का काम कर रहा है। आप छोडने का वादा कीजिए। "

मैंने डाॅ से कहा "मैं वादा करता हूँ कि आज और अभी से मैंने पान को हमेशा के लिए त्याग दिया है। पान छोड़ने का वादा मैं आपसे करता हूँ।"

मैंने 16/01/2019 से आज तक पान नहीं खाया है और जीवन भर कभी नहीं खाऊंगा।


Rate this content
Log in

More hindi story from Dr. Madhukar Rao Larokar

Similar hindi story from Drama