Arti Shrivastava

Abstract


2  

Arti Shrivastava

Abstract


मझधार

मझधार

1 min 2.9K 1 min 2.9K

रागिनी रोज की तरह शाम को छत पर जाकर बस एक टक चन्द्रमा को देखकर वही सवाल कर रही थी , जो वह हर रोज करती थी.'' क्या करूं , कुछ समझ नहीं आ रहा है, ऐसा लगता है कि जैसे नदी के बीच में हूं , किनारा तो दिख रहा है , पर किनारे पर पहुंचने के बाद क्या होगा , पता नहीं , इसलिए मैं अपने लिए कुछ भी नहीं कर पा रही हूं! ".



Rate this content
Log in

More hindi story from Arti Shrivastava

Similar hindi story from Abstract