Sandeep Kumar Keshari

Drama


4.0  

Sandeep Kumar Keshari

Drama


लॉक डाउन की बातचीत-3

लॉक डाउन की बातचीत-3

2 mins 172 2 mins 172

हेल्लो, नीलेश बोला।

हाँ, नीलेश, क्या हाल है, मैंने पूछा ?

हाँ, भाई, ठीक है, तुम बताओ।

मेरा भी ठीक है, भाई। और भाभी कैसी है ? बेटा का तबीयत ठीक है, मैंने सवालिया लहजे में कहा ?

हाँ रे, दोनों ठीक है। और, उधर लॉक डाउन का क्या स्थिति है ? कितना मरीज मिला अभी तक, उसका सवाल था ?

अभी तक बंगाल (प. बंगाल) में तो 80 हो गया इधर भाई…। इधर पिछले कुछ दिनों में अचानक बढ़ गया। उधर क्या हाल है पुणे का ? अभी घर से बाहर नहीं निकल रहे हो न, मैंने सवाल किया ?

नहीं भाई, पिछले दस दिनों में 2 बार ही घर से निकले हैं। घर में बंद कर लिए हैं खुद को…

फिर खाने-पीने का सामान, मैंने बात काटते हुए उससे पूछा ?

फ्लैट के नीचे ही सब मिल जाता है, वहीं से लेकर ऊपर आ जाते हैं, बस!

सही कर रहे हो बाबू! बच कर रहना, वैसे भी महाराष्ट्र में स्थिति बहुत खराब है, मैंने सलाह दिया।

हाँ, सही बोल रहे हो। जितना बचकर रहो, उतना अच्छा है, उसने सहमति जताई।

अच्छा नीलेश! भाई, इधर घर पर बैठे-बैठे क्या कर रहा है ? हम तो बोर हो गए हैं यूट्यूब वीडियो, फेसबुक देखते हुए। जब मन नहीं लगता है तो दोस्तों को फ़ोन कर हाल चाल पूछ लेते हैं, मैंने अपनी व्यथा उसे सुना दिया।

अरे, हम तो ऑनलाइन कोर्स जॉइन किए हैं रे। तुम भी क्यों नहीं करता, उसने जवाब दिया।

हैं…ऑनलाइन कोर्स! किसका ? ये कैसे होता है, मैंने फटाक से सवाल किया ?

अरे, तुमको जिस चीज में इंटरेस्ट है। अपना कुछ हॉबी, या नया चीज सीखना हो तो बहुत सारा ऑनलाइन कोर्स नेट पर मिल जाएगा तुमको, उसने अपनी बात पूरी करते हुए कहा।

अच्छा! भाई, हमें तो पता ही नहीं था, बेकार में 10 दिन का समय गँवा दिये।

अरे, नहीं। ऐसा नहीं है। जब जागो तभी सवेरा। आज से ही जॉइन कर लो, उसने मुझे समझाते हुए कहा।

हम्म! सही कह रहे हो भाई। आज ही देखते हैं, मेरा जवाब था।

अच्छा, तो क्या कोर्स सोच रहे हो ? कुछ शौक या हॉबी या कुछ…

अरे, हम तो कोई विदेशी भाषा सीखने को सोच रहे थे, जैसे फ्रेंच या स्पेनिश टाइप…

सही है। बहुत सारा डिप्लोमा कोर्स भी अवेलेबल है नेट में, सर्च करो, उसने कहा।

हाँ, ठीक है। और तेरा खाना-पीना हुआ, मैंने बात बदलते हुए उससे पूछा ?

नहीं, बस अब होगा…तेरा हुआ ?

हम भी जा रहे हैं खाने। चल, ठीक है तुम भी खाना खा लो। स्टे सेफ, स्टे एट होम, मैंने बात खत्म करने की मंशा से कहा (ऑनलाइन कोर्स के बारे में पता जो करना था)।

हाँ, ठीक है। तुम भी ध्यान रखो और खाना-पीना कर लो, बाय !

ओके बाय, कहते हुए मैंने फोन रख दिया।


Rate this content
Log in

More hindi story from Sandeep Kumar Keshari

Similar hindi story from Drama