Pawan Gupta

Comedy Drama


4.0  

Pawan Gupta

Comedy Drama


लैंडलाइन और मोबाइल की दोस्ती

लैंडलाइन और मोबाइल की दोस्ती

3 mins 3.3K 3 mins 3.3K

न्यू सीता राम कॉलोनी में लगभग बीसीयों बच्चे होंगे, पर उसमे सबसे ज्यादा चर्चित बच्चा संजू था, वही संजू पांडेय साहब का लड़का पांडेय साहब बिजली दफ्तर में सरकारी मुलाजिम थे। पूरी कालोनी में सिर्फ एक मात्र ऐसे व्यक्ति थे जिनके घर लैंडलाइन फ़ोन था, पूरी कालोनी के लोगो के कॉल उनके लैंडलाइन पर आते थे। इसीलिए तो पांडेय जी का लड़का संजू कॉलोनी में चर्चित था, सबको पता था कि वो घर संजू का है, पांडेय जी का घर इस नाम से बस पांडेय जी के दोस्त ही जानते थे। उस लैंडलाइन के कारण बच्चों में भी संजू बहुत फेमस था या यूँ कहिये कि पिंकू, रोहित मदन, बिरजू सबका मुखिया था। कब क्या खेलना है क्या नहीं ये संजू ही डिसाइड करता था आखिर क्यूँ न करे वो सबको बूमर, सेंटर फ्रेश, तो कभी बिग बबल खिलता था।

सारे बच्चे अपने मुखिया से बहुत खुश थे, सबकी नजर में आमिर भी था, पढ़ाई में कुछ खास नहीं था संजू पर वहां भी किस्स्मी बार और कोकोनट बार से अपना होम वर्क करवा ही लेता था।


संजू की लाइफ एक दम दबंगई तरीके से कट रही थी कि न्यू सीता राम कॉलोनी में एक फॅमिली रहने आई, वही कोने वाले बड़े घर में कोई गुप्ता जी थे, बड़े बिजनस मैन। इतने भी बड़े बिजनेस मैन नहीं थे जो की बंगले में रहे, हां कॉलोनी के लोगो के हिसाब से बड़े बिजनेस मैन थे। सामान के दो ट्रक भरकर गाड़ियाँ आई, और एक भी आई। कार में से गुप्ता जी उनकी पत्नी और उनका बेटा गोलू तीनों बाहर निकले,  उस समय कॉलोनी में संजू एंड टीम वही खेल रही थी, इतना सामान और कार को देख कर सब रुक गए, कुछ कॉलोनी की औरतें भी ताका झांकी करने लगी। संजू के दोस्तों " पिंकू, रोहित मदन, बिरजू " सबका ध्यान उस नए लड़के गोलू और उसके सामान पर थी, गोलू स्मार्ट एक दम गोरा जो कभी  ए सी से से बहार ही ना निकला हो, शरीर भी फिट कानों में ईरफ़ोन लगाए गाने सुन रहा था। ये सब चीज़े तो उस कॉलोनी के बच्चों ने सिर्फ टीवी पर ही देखा था, गोलू की गियर वाली साइकिल खिलौने ये सब देख सबका मुँह खुला का खुला रह गया। सब मज़दूर धीरे धीरे सारा सामान घर में रखवाते चले गए 3 घंटो में सब सामान घर में था,

अब धीरे धीरे गुप्ता जी के आने से पांडेय जी के लड़के की ख्याति कम होने लगी सारे बच्चे भी अब गोलू के करीब रहते।


 आखिर क्यूँ न रहे गोलू के पास .... मोबाइल फ़ोन जो था वो भी कैमरे वाला, और गोलू के पास खाने पीने की भी कोई कमी नहीं थी। अब संजू को अपनी पोस्ट छिनती हुई दिखकर बहुत गुस्सा आता पर वो क्या करें। बात बस यही खत्म नहीं होती है ...गोलू स्कूल में भी अपने झंडे गाड़ने लगा था, मैथ के सर ने एक सवाल पूछा, पूरी क्लास में ये जिसको पता हो वो अपना हाथ उठाये।

( अ² ब² )   का सूत्र बताओ इस सवाल का जबाब किसी के पास नहीं था।

तभी गोलू अपनी सीट से उठते हुए

a² b² 2ab ये जबाब इंग्लिश में इतनी आसानी से देने के कारण गोलू स्कूल का भी हीरो बनने लगा।

अब संजू के मन में गुस्से के साथ इज़त भी आ गई क्युकी संजू पढाई में बहुत कमजोर था और गोलू होशियार।

 तो अब संजू गोलू की इज्जत करने लगा, स्कूल की छुट्टी के बाद गोलू संजू के पास गया और और कहा - विल यू बी माई फ्रेंड .......

संजू को तो कुछ समझ नहीं आया बस इतना समझ पाया माई फ्रेंड,  उसका मुँह खुला रह गया, पर गोलू ने हाथ मिलाने के लिए हाथ आगे किया हुआ था तो संजू समझ गया की गोलू क्या चाहता है।

संजू हाथ मिलाते हुए ओके.. ओके... फ्रेंड ..फ्रेंड 

इस तरह न्यू सीता राम कॉलोनी के लैंडलाइन फ़ोन और स्मार्ट मोबाइल फ़ोन के मालिकों की दोस्ती हो गई .....  


Rate this content
Log in

More hindi story from Pawan Gupta

Similar hindi story from Comedy