VIPIN KUMAR TYAGI

Inspirational

3.2  

VIPIN KUMAR TYAGI

Inspirational

कलमकार की एक कहानी,

कलमकार की एक कहानी,

2 mins
71


एक कलमकार था वह एक किसान परिवार में पैदा हुआ था, उसके परिवार में उसके अलावा चार भाई बहन भी थे। उससे पहले उसके परिवार में कोई पढ़ा लिखा नहीं था तथा सभी किसान का ही कार्य करते थे। कलमकार पढ़ाई में बहुत तेज था।वह पढ़लिखकर एक बड़ा आदमी बनना चाहता था ।उसके पिता ने उसे पढ़ाया लिखाया तथा पढ़ लिखकर वह एक शिक्षक बन गया हालाकि उसे वैज्ञानिक बनने का भी मौका मिला लेकिन वह शिक्षक बन गया। वह भी विज्ञान का शिक्षक बना उसे लिखने का बड़ा शोंक था वह लिखना चाहता था लेकिन लिखने में डर लगता था इसलिए वह लंबे समय तक शिक्षक का ही कार्य करता रहा। डर के कारण कभी लिख नहीं पाया अब उसकी पदोन्नति प्राचार्य के पद पर हो गई। उसे समय मिला उसने पहली बार डरते डरते एक लेख लिखा लेकिन वह लेख एक राष्ट्रीय मैगज़ीन में छपा और उसकी खुशी का ठिकाना न रहा। अब उसने पुन लिखा वह भी दूसरी मैगज़ीन में छप गया अब तो यह सिलसिला शुरू हो गया होंसले बढ़ते गए।

कलमकार लिखता गया अब उसने कविता लिखने की सोची पहली कविता लिखी वह भी शिक्षक के ऊपर।किसी को न तो बताया न ही दिखाया केवल एक ऑन लाइन मैगज़ीन में छपने को भेजा वह कविता भी छप गई।कलमकार ने ईश्वर को धन्यवाद दिया और कविता लिखने का सिलसिला प्रारंभ हो गया ।वह कविता लिखता गया कविताएं प्रकाशित होती गई ।लोगो को पसंद आई पहले वह शिक्षक से लेखक बना फिर लेखक के साथ साथ कवि बना अब कहानीकार भी बन गया समय के साथ साथ बदलाव आते गए ।जो पहले मुश्किल था असंभव था अब आसान व संभव हो गया ।अब प्रतिदिन लिखने लगा अब वह पर्यावरण व सामाजिक बुराइयों पर लिखने लगा प्रशासनिक कार्यों के साथ साथ शिक्षण व लेखन का कार्य भी साथ साथ चलने लगा उसने सैकड़ों कविताएं लिखी जो प्रकाशित भी हुई और उसकी खुशी की कोई सीमा नहीं रही। कलमकार एक प्रशासनिक अधिकारी के साथ साथ लेखक।कवि व कहानीकार भी बन गया।

इस कहानी से हमे पता चलता है कि कोई भी कार्य मुश्किल व असंभव नहीं है केवल हमे अपनी इच्छा शक्ति की जरूरत होती हैं, हम उसे आसान व संभव बना सकते है ओर कलमकार बन उड़ान भर सकते हैं सभी को यह सोचना चाहिए कि वह क्या कार्य पसंद करते है क्या बनना चाहते है ओर उसी ओर प्रयास करे फिर देखे की सफलता मिलती हैं कि नहीं।ऐसी ही सफलता कलमकार को मिली।


Rate this content
Log in

Similar hindi story from Inspirational