Pallavi PS

Romance


4.6  

Pallavi PS

Romance


एक डेट ऐसी भी,अनोखी सी

एक डेट ऐसी भी,अनोखी सी

7 mins 334 7 mins 334

दो रूहों का वो पहला एहसास

वो मोहब्ब्त पहली थी या वो मुस्क पहली थी,जाने ऐसी क्या कशिश थी उनमें ,की दिल रात भर बैचैन था ? वहाँ वो शायद चैन की नींद सो रहे थे और हम यहाँ करवटें बदल - बदल कर रात भर चाँद से सुबह में ढ़लने को कह रहे थे,ज़हन मे ये ख़याल भी आ रहा था कि जनाब कहीं हम इश्क़ के अक्स से टकड़ा तो नहीं बैठे?वो पहली रात थी जब हमने चाँद के शीत को अनदेखा कर आफ़ताब की रौशिनी का बेसब्री से इंतजार किया,रात भर अपने दिल से उनका इकरार करते रहे,अपने पहली मोहब्बत का सवाल करते रहे औऱ नादान-ए-दिल बिना जवाब दिए मेरे होंठो पर मुस्कान बन कर बिखर जाता। वो रात अलग सी कयामत ढाए हमारे सिरहाने बैठी थी ,वो पहली रात थी जब हम उनकी एक आवाज़ सुनने को बेचैन थे,उनको एक झलक देखने को हमारा दिल बेआबरू हो रहा था,जबकी सुबह में हीं हमारी मुलाकात उनसे शहर जाने के दरमियाँ हुई थी,वो शहर जाने से पहले हमसे मिलने आये थे ,हमें ताज़्जुब इस बात की हो रही थी कि हमे आज तक ऐसा एहसास नहीं हुआ ? कभी हमने पहले कभी किसी को देख कर बेवज़ह मुस्कुराया नहीं। आखिर हमारे साथ ऐसा क्यूँ हो रहा है?हमें कुछ समझ नहीं आरहा था।दिल मे रात भर सागर की धारा के तरह हमारे मन मे ये सवाल आ रहेक्यूँ आज अचानक कचौरियाँ तलने वक़्त वो हमें याद आते रहे और हमने उन बेकसूर कचौरियों को जला दिया ? क्यूँ पढ़ते वक़्त हम पढ़ाई छोड़ उन्हें याद करके अपने पन्नो पर उनका नाम लिखने लगे ?क्यूँ हम उनकी बातों को याद कर मुस्कुरा जाते थे तो कभी उनके दूर होने से उदास होजाया करते थे ? क्यों हम ये भूल गए की वो हमसे दूर इस शहर से बाहर अपने इम्तिहान के लिये गए हैं। क्यूँ हम एक रात भर के लिए खुद को सम्भाल न सके और उनकी आवाज़ सुनने के लिए उन्हें फ़ोन कर बैठे ? और फ़ोन पर उनकी आवाज़ सुनते ही हमारा दिल पल भर के लिए थम सा गया,जुबान खामोशी हो गयी। अचानक फिर हम उनसे ये पुछ बैठे, कि आपको भी हमारी याद आ रही है ? तब उन्होंने बहुत हीं मीठे स्वर में कहा कि याद तो आएगी हीं तुम मेरी पहली मोहब्ब्त जो हो,बहुत मुश्किल हो रहा है ये रात,इतने महीनों में पहली बार तुमसे दूर आया हूँ। पर मैं कल आते ही सबसे पहले तुमसे मिलूँगा इंतेज़ार और उन्होंने फ़ोन रख दिया, हम तो उस वक़्त से मानो ख़ामोश हीं हो गए बिस्तर की सिलवटों में लिपट कर उनकी बातों को याद कर मुस्कुराते रहे,चाँद की शीत के ढलने का सब्र हीं नहीं जुटा पा रहे थे हम उस रादिन भर क्लास में खामोश होकर सुबह से शाम होने का इंतेज़ार करते रहे और पढ़ाई खत्म होते हीं हम उनके आने का इंतेज़ार अपने दोस्त के घर जाकर करने लगे हमनें किसी को नहीं बताया कि हमारे मन मे क्या उथल-पुथल चल रही है, और शाम 4बजे अचानक हमें उनका फ़ोन आया और उन्होंने हमसे कहा मैं बस से उतरने वाला हूँ,तुम पास वाले सड़क पर आ जाओ , हमदोनों यहाँ से दस कदम दूर वाले रेस्तरां चल रहे हैं,हमनें उन्हें डर से इनकार कर दिया की हम नहीं आ सकते वहाँ, हमें कोई देख लेगा तो बहुत मुश्किल हो जाहमारा दिल बहुत धड़कने लगा हम घबरा से गये,जब हमारी दोस्त ने पूछा तो हमनें उसे कहा कि हमें घर जाना चाहिये ,काफी देर हो चुकी है,और हम घर के लिए निकल गए। रास्ते में हमें वापस से उनका फ़ोन आ गया और वो आने की जिद्द कर बैठे हमने उनसे झुठ कहा कि हम घर पहुँचने वाले हैं और जैसे हीं हमने कदम बढ़ाया की वो हमें हमारे सामने दिख गए, फिर हम उनका चेहरा देख उन्हें चाहते हुए भी मना नहीं कर पाए क्यूँकि उन्होंने हमसे हमारा 15min. ही माँगा। वो हमदोनों का पहला डेट था हमनें आजतक डेट फिल्मों में ही देखा था, पर आज वो हमारी असल जिंदगी का खूबसूरत पल होने वाला था,हम उसे महसूस कर पा रहे थे,हम जीतनी धीमी गति से उस ओर कदम बढ़ा रहे थे,हमारा दिल उतने ही तेज़ से धड़क रहा था ,लोगो की नज़रों से बचने के लिए हम उनके पीछे-पीछे चल रहे थे, और वो हमारे आगे। वो दिल ही दिल मे खुश थे कि हमने उनको ये मौकाहमारा ये डेट औरो के डेट से बिल्कुल अलग था,क्योंकि आमतौर पर लोग डेट के लिए नए अंदाज में आते हैं,नए कपड़े पहनते हैं और ना जाने क्या-क्या ?पर हमारा अफ़साना तो कुछ और हीं था,हमारे दिल में हज़ार सवालो के सैलाब फिर से उठ रहे थे कि ये कैसा डेट हैं हमदोनों का ? हमनें न तो कोई नया कपड़ा पहना हैं, ना हीं मेकअप किया है,यहाँ तक की हमने सुबह से आईने में अपना चेहरा भी नहीं देखा है कि हम कैसे दिख रहे हैं,वो तो बाहर से आये थे तो वो काफी स्मार्ट दिख रहे थे ऊपर से नीचे एकदम हीरो की तरह औऱ हम मानो हीरोइन की बाजू वाली सीट पर बैठी कोई आम लड़की ....

आह ! वो शाम भी क्या खूब थी ?

जब हम दोनों वहाँ पहुँचे तो उन्होंने हमारे लिए एक चेयर निकाला और हमें बिठाया हमारी तो उस वक़्त की मुस्कान कुछ अलग हीं थी,मानो सारा डर उड़ कर मेरे होंठो पर मुस्कान बन बैठ गया हो,और जब हमने उनकी ओर देखा तो उनके चेहरे पर भी एक अलग सी मुस्कुराहट थी जो हमने उस दिन से पहले कभी नहीं देखी थी।

उनके हँसते हुए चेहरे का दीदार कर हम खो से गये। उन्होंने धीमे स्वर में कहा मेरा ये सरप्राइज था ,पसन्द तो आया न ! हमने भी शर्मा कर अपना सिर हिला दिया। क्यूँकि हम खुद को समझ गए थे की हम उनसे प्यार करते है,बस दिल की मंजूरी जाननी थी अब हमें।

शाम ढलने वाली थी घर के लिए देर हो रहा था। इसिलये हमारे पास ज्यादा वक्त नहीं था, हम दोनों के ज़ुबान खामोश थे उस शाम हमें समझ नहीं आ रहा था कि क्या बात करें हम एक-दूसरे से। जब कुछ देर बित गया तो उन्होंने उस रेस्तरां की तारीफ करनी शुरू करदी। हमदोनों इन्हीं सब बातों में उलझे रहे फिर बेट्रेस खाने का आर्डर लेने आगया।आम डेट की तरह उन्होंने उस डेट पर ना तो कॉफी आर्डर किया ना हीं जूस !हमसे पूछा उन्होंने तो हम बता नहीं पाए। तो उन्होंने हमारे लिए "अंडे के पकौड़े"मँगवाये क्योंकि हमे वो बहुत पसन्द था,और उनसे हमने ये बात कुछ महीने पहले हीं बताई थी। और खुद के लिए उन्होंने "चिकेन चिल्ली" का ऑर्डर दिया। जब बेट्रेस आर्डर लेकर आया तो उस पकौड़े को देख हमारी हँसी रुकी नहीं ,हम ये सोच कर हँस बैठे की डेट पर ये पकौड़े कौन मंगवाता है ?पर भीतर से हमें बहुत अच्छा लगा की उन्हें हमारी छोटी सी पसन्द का इतना ख्याल है। हमारे उस डेट पर हमनें अपना-अपना पसन्दीदा खाना खाया और एक दूसरे को देख मुस्कुरा दिया क्यूँकि वो सबसे अनोखी डेट थी। जहाँ न हमने कुछ प्यार वाली बातें की ना हीं एक दूसरे के पसन्द न पसन्द जानने की कोशिश कि। फिर भी एक दूसरे से मन हीं मन में प्यार का इज़हार कर बैठे।उसके बाद हमदोनों एक-दूसरे का हाथ पकड़ वहाँ से बेफिक्र निकल गए औऱ आधे सीढ़ी पर आते हीं उन्होंने अचानक हमें झट से अपने गले से लगाया और हमारे माथे को चूम लिया । हम तो कुछ पल के लिए डर गए कि कहीं किसी ने देखा तो नहीं फिर हम भी उनके गले से लगकर अपने दिल की बात कह दी।

जहाँ डेट पर लोग एक-दूसरे को समझने और जानने जाते हैं, वहाँ हम दोनों बेमतलब की बातें करके और लज़ीज़ खाना खा कर आ गए,

 क्या खूब रहा हमारा पहला डेट 

असल मायने में उस डेट पर उन्होंने हमारे अंदर के डर को निकाल फेंक दिया ,जिस डर के कारण हमें घबराहट हो रही थी ,वहाँ जाने में,उनसे खुल कर अपने दिल की बात करने में ,वो सब डर हमारे अंदर से खत्म होगया। हमदोनो एक दूसरे को ज्यादा तो नहीं जान पाए उस शाम ,पर इतना समझ आ गया की हम दोनों एक दूसरे के लिए हीं बने है,और हम उनके प्यार में पूरा पड़ गए। हमारे दिल ने भी हमें जवाब दे दिया कि हम उनसे बेपनाह प्यार करते हैं।

हम बहुत ! नहीं हम दोनों ही बहुत खुश थे। वहाँ से वो हमें घर तक छोड़ने आये वो, हम रास्ते भर ये सोच रहे थे कि हम अच्छे तो दिख रहे थे न ! पर उन्हें कोई फर्क ही नही पड़ा कि हम क्या पहनें हैं या हमने मेकअप किया है कि नहीं ?और फिर उस रात को उन्होंने हमें मैसेज किया कि आज शाम तुम ब्लू और पिंक ड्रेस में बहुत ख़ूबसूरत दिख रही थी । फिर क्या था हमारी उस शाम की खुशी तो चार गुनी होगयी थी। औऱ ये डेट हमारे ज़िन्दगी का सबसे अनोखा और खूबसूरत डेट बन गया।

 हमारी एक अनोखी डेट।।



 


Rate this content
Log in

More hindi story from Pallavi PS

Similar hindi story from Romance