Professor Santosh Chahar

Tragedy


4  

Professor Santosh Chahar

Tragedy


गुनाह

गुनाह

8 mins 161 8 mins 161

फोन की घंटी घनघना रही थी और मैं दोपहर की नींद से एकदम उठ कर बैठ गई और फोन देखा तो मेरी एक जूनियर असिस्टेंट प्रोफेसर कृति का फोन आया था। कोविड19 के चलते लॉकडाउन की प्रक्रिया पूरे देश में लागू हुए एक महीना हो चुका था। मैंने कहा

" हां कृति, कैसी हो?"

"बस मैम ठीक ही हूं"

"नहीं, तुम्हारी आवाज़ में कुछ परेशानी झलक रही है"

" क्या बताऊं मैम, घर में बहुत विवाद बढ़ गया है"

"अरे क्या हुआ? कुछ बताओगी? एक सप्ताह पहले तो तुम कह रही थी सब ठीक है?"

" वो, मैम मैं सोच रही थी सब ठीक हो जाएगा, लेकिन बात बढ़ गई है" कृति की आवाज रुआंसी हो गई थी।

कृति से बातचीत करने पर पता चला कि उसके घर में पिछले एक महीने से आपसी तनाव बहुत बढ़ गया है। 

कृति, हरियाणा आंचल के एक गांव से संबंध रखती है और उसके पापा श्रीमान बलदेव की अपनी फैक्ट्री है। तीन मकान हैं अलग अलग-अलग शहरों में और एक गांव का कोठीनुमा घर है। कृति पिछले साल ही हमारे महाविद्यालय में अंग्रेजी के असिस्टेंट प्रोफेसर के पद पर अस्थाई रुप से तैनात थी और उसके व्यक्तित्व ने मेरा मन मोह लिया था। स्पष्टवादी व मृदुभाषी इस लड़की ने महाविद्यालय की छात्राओं के बीच थोड़े ही समय में अच्छी खासी पहचान बना ली थी। कृति घर में सबसे बड़ी है और दो छोटी बहनें हैं। कृति की एक बहन एम।बी। बी। एस। के अंतिम वर्ष में अध्ययनरत हैं और तीसरे नंबर पर साक्षी है जिसने अभी बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण की है। कृति की कुछ पारिवारिक समस्याओं से मैं अवगत तो थी लेकिन ये कभी कल्पना भी नहीं की थी कि विवाद इतना बढ़ जाएगा।

दरअसल, कृति के पापा अपने माता-पिता की इकलौती संतान रहे हैं। कृति के दादा जी को गुजरे काफी साल हो चुके हैं। कृति बताती है कि वह जब पांच साल की रही होगी, जब दादाजी की मृत्यु हुई। अब घर में दादी का एकछत्र राज था और उनके निशाने पर हमेशा कृति की मां होती थी , जिन्होंने एक के बाद एक लड़की को जन्म दिया। कृति सीधी बात बताती है कि एक बार तो दादी उसे उठा कर छत पर ले गयी थी और वहीं से नीचे गिराकर मारने का भूत सवार था। लेकिन उसकी मां ने बहुत मिन्नतें की तब जाकर, वह मानी थी। इस घटनाक्रम के बाद कृति को उसके मामा तीन महीने की नन्ही बच्ची को अपने साथ ले गए थे और वहीं उसका पालन-पोषण और बारहवीं तक शिक्षा हुई। व बताती है कि बारहवीं कक्षा के बाद वह अपने घर मां पापा के पास लौटी थी लेकिन दादी को वह फूटी आंख नहीं सुहाती थी क्योंकि कृति ने अपनी मां का पक्ष लेना शुरू कर दिया था। कृति सीधी बात में दादी को भी समझाती थी कि लड़कियां , लड़कों से किसी भी क्षेत्र में कम नहीं हैं। दादी को लेकिन एक भय भी रहता था। दरअसल किसी ज्योतिषी ने कहा था कि, " तेरी बड़ी पोती तेरे पर भारी रहेगी" बस फिर क्या था, दादी आए दिन नयी नयी शिकायतें अपने बेटे से करती रहती थी, कभी कृति को लेकर कभी कृति की मां को लेकर। 

बलदेव सिंह शांत प्रवृत्ति के व्यक्ति रहे हैं और उन्हें अपनी फैक्ट्री से ही फुर्सत नहीं मिलती थी। इसी तरह साल दर साल बीतते गए, लेकिन दादी ने कृति की मां को सताना नहीं छोड़ा। गुस्से में आकर कभी कभी बलदेव अपनी पत्नी पर हाथ भी उठा देते थे लेकिन चूंकि वह लड़कियों तक ये बात नहीं जताती थी, यद्यपि कृति अपने नाना नानी के पास जाती थी तो उसे नानी से पता चलता रहता था। कृति की दूसरी बहन मनीषा छात्रावास में रहती थी और सबसे छोटी अपनी बड़ी बहन की छत्रछाया में। कृति के आने के बाद उसका हौंसला बढ़ गया था। कृति की मां अपने साथ हुई ज्यादतियों की बात कभी बेटियों तक नहीं पहुंचने देती थी लेकिन बेटियों को आभास हो ही जाता था कि मां को दादी इसलिए परेशान करती है कि उन्होंने पुत्र को जन्म नहीं दिया था। घर में होते झगड़ों से बेटियों को भी दुःख होता था और वे सोचती थी कि पोता ना होने पर दादी ,मां को इस कदर परेशान व कटु बाणों से कब तक घायल करती रहेंगी। बेटे के ना होने में विज्ञान के अनुसार स्त्री की तो कोई भूमिका ही नहीं है। ये तो पुरुष के कोरोम्जोम पर निर्भर करता है। लेकिन दादी इन बातों से कोई वास्ता नहीं रखती थी और पुत्र ना जनने का सारा ठीकरा अपनी बहु पर फोड़ती रहती थी। बलदेव सिंह भी मां को कुछ नहीं कहते थे क्योंकि एक बार कृति को उन्होंने कहा था,

"तेरे दादाजी की चिता के समक्ष मैंने प्रण किया था कि दादी का साथ मरते दम तक निभाऊंगा"

" पापा, फिर आपने मां से शादी की थी तब भी तो वचन भरे होंगें ना, उन वचनों का क्या? और आप क्या, हम सब भी तो दादी का ध्यान रखते हैं और वो हमारे जन्म को ही कोसती रहती हैं?"

"मैं कुछ नहीं जानता, में तेरी दादी का साथ दूंगा, मैं उन्हें कुछ नहीं कह सकता"

"ठीक है, फिर हम तो मां का समर्थन करेंगी। मुझे ये बताइए कि, हमने क्या गुनाह किया है बेटी के रुप में जन्म लेकर, मां ने क्या गुनाह किया है कि वो पुत्र को जन्म नहीं दे सकीं, आप तो विज्ञान समझते हैं और क्या दादी खुद एक औरत नहीं हैं? क्या उनका पलड़ा इसीलिए भारी हैं कि वो एक बेटे की मां हैं?"

"मैं कुछ नहीं जानता, मुझे उनका साथ तो देना है। तुम सबका हिस्सा मैंने फैक्ट्री में डाल रखा है। शादी होने तक उसका लेखा जोखा मेरे पास रहेगा। तुम्हें किसी प्रकार की कमी नहीं है"

आज कृति ने जो बताया तो मुझे बहुत दुःख भी हुआ और बहुत सारे प्रश्न में उठ खड़े हुए। कृति ने बताया कि उसके पापा, दादी को लेकर गुरुग्राम वाले फ्लैट में चले गए हैं और दो सप्ताह हो गया वहीं पर ही हैं। घर के सारे जरुरी कागज़ात भी ले गए हैं और दादी ने मां को जाते समय धमकी भी दी थी कि " देखूंगी क्यूकर ब्याह करय गी, इन छौरीयां का..."।

"अरे, बात यहां तक आ गई है? मेरे दिल की धड़कन बढ़ गई थी और कृति का उदास स्वर बहुत कुछ कह रहा था।

" हां, मैम। मैं बहुत परेशान थी, तो मैंने सोचा आपसे बात कर लेती हूं। मन बहुत परेशान हो रहा था। दस दिन से तो मैं लगातार रो ही रही थी। मम्मी ने समझाया है कि 'मैं तुम सबके साथ हूं। तुम लोग क्यों इतनी परेशान होती हो मुझे तो पता था कि ये विस्फोट कभी भी हो सकता है।"

" हां, हां कृति। तुम कभी भी मेरे से बात कर सकती हो। और सुनो, ये कोविड में वैसे ही लोग चिड़चिड़े हो रखें हैं। कोई बात नहीं, हो सकता है इसी में कुछ भलाई छिपी हो। हो सकता है विवाद ज्यादा बढ़ने पर कोई दुर्घटना जन्म ले। इसलिए ,तुम चिंता मत करो। सब ठीक हो जाएगा"

" हां, मैम। हमारे गांव में कम से कम बीस आत्महत्या के मामले हो चुके हैं"।

"तभी, मैं कह रही हूं, चिंता मत करो। दूर दूर रहो। "

" मैम, ऐसा है ना, पहले तो हम सभी लड़कियां अपने अपने काम पर चली जाती थी। अभी लॉकडाउन में सब एक महीने से हर वक्त साथ रह रहे हैं और दादी को तो हम सभी वैसे ही खटकती हैं, इसलिए हर रोज़ घर में कलह हो रही थी। पापा भी फैक्ट्री नहीं जा रहे थे, छोटी छोटी बातें भी बढ़ जाती थीं"

" हां, इसलिए ही कह रही हूं, जाने दो। जान बची रहे, वहीं बहुत है। सब ठीक हो जाएगा। नहीं तो जो सामने आएगा उसका मुकाबला तो करना ही पड़ेगा। परिस्थितियों से पहले ही हार मान ली तो हम लड़ भी नहीं पाएंगे। "

"जी, मैम"

" मम्मी कैसी हैं? उनका ख्याल रखना"

"मम्मी तो संभली हुई हैं। मामा लोग भी आए थे और कह रहे थे कोई चिंता करने की जरूरत नहीं है। जो होगा, देख लेगें। उन्होंने पापा को काफी समझाया था लेकिन पता नहीं क्या भूत सवार है, पापा किसी की बात भी नहीं सुन रहे। बस एक ही बात कहते हैं कि " मैं मां का साथ नहीं छोड़ सकता। "

" अरे ,भाई उन्हें साथ छोड़ने के लिए कह कौन रहा है। लेकिन इसका मतलब यह तो नहीं ना कि शादी लायक बेटियों को एक औरत के हवाले यूं छोड़ जाएं और वो भी तुम्हारी मम्मी ने तो कभी जॉब भी नहीं किया। "

" यही तो मैम। एक साल से तो मेरे लिए रिश्ता ढूंढ रहे थे। इस उम्र में अब तलाक लेने की बात कर रहे हैं, इसलिए मेरी परेशानी बढ़ गई है। मेरी दोनों छोटी बहनें तो मेरी तरफ ही देखती हैं। पापा ने तो ये भी निर्णय ले लिया है किस को कौनसा फ्लैट देना है। मैंने तो मना कर दिया कि मुझे कुछ नहीं चाहिए।"

"नहीं, यहीं तुम गलती कर रही हो। यदि नौबत यहां तक आ गई है तो अपना हिस्सा लो। ये जिंदगी का सफ़र बड़ा कठिन है। गांठ में कुछ होगा तो सुरक्षित रहोगी"

" मैम, मैं तो सोच रही थी अपने लायक कमा ही लूंगी। बल्कि सबसे छोटी बहन को अभी आगे पढ़ाना है। "

" हां, तो अभी तुम्हारी नौकरी नियमित नहीं है, इसलिए अपने अकाउंट से कुछ पैसा निकाल लो, जहां फैक्ट्री का हिस्सा डलता है।"

" हमने निकाले थे एक लाख रुपए। उसका मैसेज पापा के फोन पर जाता है। उन्होंने तुरंत अकाउंट को फीरज़ करवा दिया है और मम्मी को धमका रहे थे कि इतने पैसों की तुम्हें कहां ज़रुरत पड़ गई।"

" दो तीन महीने का तो इंतजाम हो गया ना। आगे भी कुछ रास्ता निकलेगा। एक रास्ता बंद होता है तो दूसरा जरुर खुलता है। चिंता मत करो"

"जी, मैम। यूं तो मामा जी व नाना जी भी कह रहे थे, ' हमारे रहते तुम लड़कियों को कोई चिंता करने की आवश्यकता नहीं है"

"ठीक है ,बेटा कृति। सब समय का फेर है। ये वक्त भी गुजर जाएगा"

" शुक्रिया मैम, ध्यान रखूंगी। आप तो बिल्कुल मम्मी की तरहं समझाते हो।"

कृति से बातचीत करने के बाद मन विचलित रहा । मैं सोचती रही, गुनाह किसका है? क्या बेटी जन्म लेना गुनाह है या हमारी मान्यताओं को गुनाहगार ठहराएं या उस समाज को जो बेटी को बोझ समझता है लेकिन बहू सभी को चाहिए। हम इक्कसवी सदी में " बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ" के नारे लगाते हैं लेकिन क्या अपनी सोच में आमूलचूल परिवर्तन कर रहे हैं? ऐसी घटनाएं सोचने पर बाध्य करती हैं। SeedhiBaat यह है कि बेटियों के लिए नया आकाश छूना अभी बहुत दूर की छलांग है।


Rate this content
Log in

More hindi story from Professor Santosh Chahar

Similar hindi story from Tragedy