Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.
Hurry up! before its gone. Grab the BESTSELLERS now.

Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Inspirational Others Tragedy


3.5  

Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Inspirational Others Tragedy


अजन्मी

अजन्मी

3 mins 21.8K 3 mins 21.8K

 

अंधलोक, ये जलमंडल है, मैं जिस घर में सोई हूँ ।

धड़कन सुनती रहती हूँ, सुंदर सपनों में खोई हूँ ।

मैं मम्मी जैसी लगती या पापा की राजदुलारी हूँ ।

मैं ही तो हूँ जो उनके, सूने आँगन की फुलवारी हूँ  ।

दुनिया में जब मैं आऊँगी तो, मम्मी-पापा देखूँगी ।

भैया, दीदी, दादी, नानी और चाची-चाचा देखूँगी ।

सब कितना अच्छा है ना, मैं अपने घर में लेटी हूँ ।

कहते हैं दुनिया बुरी बहुत, देखो ज़िंदा हूँ! बेटी हूँ !  

इक रोज़ सुना मैंने देखो, मुझको बेटे की आशा है ।

बेटा ही मेरे वंशबीज की, पूर्णसत्य परिभाषा है ।

जाने कैसी बात चली, क्यूँ रार हुआ फिर पापा से ।

मम्मी थक के बैठ गयी, हामी भर घोर निराशा से ।

दिल की धड़कन तेज़ हुई, मेरा तन मुझपर बोझ हुआ ।

पता नहीं क्यूँ मम्मी-पापा को, ना कुछ संकोच हुआ ।

मेरे सारे सुंदर सपने अब, मुझसे नाता तोड़ गऐ ।

 भैया-दीदी, दादी-नानी, मुझको मरने को छोड़ गऐ ।

वो मेरा अंतिम दिन था, मैं सुंदर सपनों में खोई थी ।

जब मेरा हश्र निकट आया, मैं पापा-पापा रोई थी ।

मेरी दुनिया जलमग्न नहीं थी, पूरी सूखी-सूखी थी ।

वो कालस्वरूपा कैंची अब, मेरे उस तन की भूखी थी ।

जकडा पैर दर्द से चीखी, तुमको याद किया पापा ।

मेरी अदनी पायल का सपना, क्यूँ बर्बाद किया पापा ।

बस कंगन वाले हाथ बचे, बेपैर हो गयी थी पापा ।

मम्मी के अंदर मैं, अंगों का ढेर हो गयी थी पापा ।

हाथों को मेरे काट-पीट, कैंची गर्दन पर आन टिकी ।

रो-रोकर चीखें मार रही थी, बेटी तेरी कटी – पिटी ।

मेरी गर्दन को काट रही कैंची, मैं लेकिन ज़िन्दा थी ।

ना शर्मसार मम्मी-पापा, ना मानवता शर्मिंदा थी ।

  •  

तन की पीड़ा खत्म हुई लेकिन इस मन की बाक़ी थी ।

बस ऐसे ही बेमन से मैं कमरे के बाहर झाँकी थी ।

मेरे पप्पा के नयनों में इक मर्महीन संतोष दिखा ।

पता नहीं मम्मी-पापा को किसने ऐसा दिया सिखा ।

खत्म हुई मैं दुनिया से अब बेटी का क्या करना है ।

बेटी तो ऐसा शापितघट है जिसको हरदम भरना है ।

कत्लगाह से बाहर निकली मुझसे सहते नहीं बना ।  

बेज़ुबान हूँ लेकिन मुझसे अब चुप रहते नहीं बना ।

ना अग्निशिखाऐं देखीं ना हुई कबर में कहीं दफ़न ।

ना कंगन, पायल, टिकली ना भाग्य में मेरे रहा कफ़न ।

किस मज़हब ने इंसानों को ऐसे दूषित आमाल दिऐ ।

नन्हें कोमल तन के टुकड़े ‌कुत्तों के आगे डाल दिऐ ।  

मैंने देखा इक कुतिया को कचरे के ऊपर लेटी थी ।

वो अपने मम्मी-पापा की मेरे जैसी ही बेटी थी ।

ज़िंदा है, दुनिया में है, देखो वो भी इक बेटी है ।

वो अपने मम्मी पापा के पहलू में कैसी लेटी है ।

ऐ काश ! मैं भी यहीं कहीं ज़िंदा होती लेटी होती ।

उन ज़ल्लादों से बेहतर मैं इस कुतिया की बेटी होती ।

 

 

 


Rate this content
Log in

More hindi story from Kavi Vijay Kumar Vidrohi

Similar hindi story from Inspirational