Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!
Click Here. Romance Combo up for Grabs to Read while it Rains!

Suresh Koundal

Inspirational


4.8  

Suresh Koundal

Inspirational


वीर जवान सरहद के प्रहरी

वीर जवान सरहद के प्रहरी

1 min 227 1 min 227


डटे प्रहरी सीमा पर, भारत के रखवाले ।

खड़े हैं वीर जवान देश के , मतवाले सीना ताने ।।


हों ऊंचे पहाड़ , या उठती लहरें ,

भयानक जंगल , या दहकती लपटें ,

कभी नही घबराते ।

कितनी बड़ी मुसीबत हो पग में , 

आगे बढ़ते जाते ।।


बारिश हो या हो तूफान ,

समंदर ले चाहे भयंकर ऊफान ,

कारगिल , डोकलाम या हो गलवान ।

भिड़ जाते दुश्मन से , ले हथेली पर जान ।

अपने प्राण लुटा देते पर,

झुकने न देते देश की आन ।।


बारूद फ़टे या हो गोलियों की बौछार ।

शत्रु से लोहा लेने को ,

हर पल ये शूरवीर तैयार ।

इस तिरंगे की शान की खातिर ,

करते अपनी जान निसार ।।


जब जब दुश्मन ने देश पर आंख उठाई ,

देश की अस्मिता खतरे में आई ।

सर्जिकल स्ट्राइक कर दुश्मन पर,

उनकी जमीन पर लाशें बिछाईं ।

खेली शत्रु के खून की होली 

रणभूमि में धूल चटाई ।।


नमन उन वीर जवानों को ,

जिन्होंने देश के कल के लिए ,

अपना आज कुर्बान किया ,

भारत माँ की रक्षा खातिर ,

खुद को देश के नाम किया ।


जिनके कारण हम सब बेफिक्र ,

अपने अपने घर पर बैठे हैं ।

देश पर मरने वाले सैनिक , 

वो भी किसी के बेटे हैं ।


मेरे देश के प्यारो तुम सब ,

बस इतना सा काम करो ।

देश के वीर सैनिक का , 

हमेशा तुम सम्मान करो ।।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Suresh Koundal

Similar hindi poem from Inspirational