Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Lakshman Jha

Inspirational


4  

Lakshman Jha

Inspirational


" सपना और संकल्प "

" सपना और संकल्प "

1 min 3 1 min 3

सपना है

कुछ अच्छा

काम करें !

समाज के

उत्थान का

कोई भाग बनें !


शिक्षा के

दीपों को

जलाकर

अंधकार को

हम दूर करें !


बोझिलता और

अकर्मण्यता

को त्याग

स्फूर्ति और

प्राण भरें !


समाजिक

वैमनष्यता

घृणा और द्वेष

को प्रेम के

चन्दन से

तिलक करें !


प्राकृतिक

धरोहरों को

विनाश नहीं

कभी

होने दें !


वृक्ष और

जलाशय

पशु और

पक्षी को

जीवित हम

रहने दें !


सब जीव

जन्तु हैं

आलंबित हैं

संग उसको

रहने दें !


दुबके जो

बैठे हैं

आगे उन्हें

लाकर

अधिकारों

का बोध

करना है !


मेघ में

छिद्र

करके

प्यासी

धरा को

सिंचित

हमें

करना है !


यही हमारा

सपना और

संकल्प है

निरंतर

कुछ काम

करें !


समाज का

कल्याण हो

राज्य और

देश का

उत्थान

करें !


Rate this content
Log in

More hindi poem from Lakshman Jha

Similar hindi poem from Inspirational