Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

AMIT SAGAR

Inspirational

4.8  

AMIT SAGAR

Inspirational

सिर्फ 26 और 15

सिर्फ 26 और 15

2 mins
79


बहुत लोग करते हैं गुलिस्ताऐं 

वतन की बाते यारो।

पर‌ यह बाते 15 अगस्त

और 26 जनवरी पर ही

क्यों याद आती है


उसके बाद मैं कौन तू कौन

भारत में यह चलता है

बाकी के 363 दिन धर्म और

जाति का मसला उछलता है


जो पापा की परियाँ अपने भाषण में

देश को जोड़ने की बातें करती है

वही पापा की परियाँ अगले दि‌न

किसी गुमशुदा पैड़ के नीचे


अपने आशिक के साथ पापा का घर

 छोड़ने की बातें करती हैं

बाप का लाडला  गाता है

मेरा मुल्क मेरा देश मेरा यह वतन

वही सिगरेट का धुआ उड़ाकर


बर्बाद करता है अपना तन और धन

कॉलिज स्कूल का रस्ता भूल

गलियों के गुन्डे बनते है

माँ बाप का सिर झुकजाता जब


बिन व्याहे बच्चे जनते हैं

अब क्यों नहीं करते बच्चे

जनगणमन और बन्देमातरम 

जैसे गीतों  का प्रायास

पहले तो महीनों से करते थे


सारे जहाँ से अच्छा जैंसे

गीतो का रियाज

कवि हमे जब सुनाते थे

वीरो की गाथाऐं

उनके  हर शब्द हमको

ह़कीकते दरमयान लगते थे


लड्डू समोसे का ऑर्डर

हफ्तो पहले होता था

और तिरंगा बनाने को हम

सारी रात जगते थे


आजादी के किस्से सुनकर

रुह काँपने लगती थी

देशभक्ती के गीतों पर

महफिले नाचने लगती थी

अब नहीं भगत आजद और


अशफाक गुरु जैंसे बन्दे

जिन्हें फूल बताशो जैंसे

लगते थे अंग्रेजो के डन्डे

छोड़ ऐश देश की खतिर

गर्दन में डाल लियें फन्दे


और जब यह दहाड़ लगाते

झुक जाते अंग्रेजो के झन्डे

अब चलन दिखावे का आया

हर कोई दिखावा करता है

दो फूल चढ़ाके शहीदों पर


हर पल गद्दारी करता है

रिश्वत लेना ठगना सबको

यह पाप नहीं क्या है बोलो

धूल झोँकना झूठ बोलना


सच के संग इसको ना तोलो

अब वतन फ़रोशी मिलते है

जो लहु की होली खेलते हैं

जब जब खुशहाल हुआ भारत वो

गड्डो कि तरफ क्यों धकेलते हैं।


दो दिन ही तिरंगे के नीचे

सर अपना उँचा रहता है

और बाकी दिन मोबाइल पर

सर झुका झुका सा रहता है


इन दो दिन ही क्यों याद आती हैं

हमें अपने देश की बाते

और बाकी के दिन क्या हम

किसी और देश के हो जाते

अब क्यों नहीं करते बच्चे।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational