Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

अमित प्रेमशंकर

Abstract

3  

अमित प्रेमशंकर

Abstract

राऊर नेहिया में बंधल बा इ बेटा राऊरे

राऊर नेहिया में बंधल बा इ बेटा राऊरे

1 min
58


राऊर नेहिया में बंधल बा इ बेटा राऊरे

निस दिन पुजेलीं चरणिया आ के दुवरिया राऊरे

धावे गईलीं, मैय्यहर गईलीं

भद्रकाली दुवरिया में

तबे जा के पवली ए माई


डिप्टी तोहर चरणीया में

धोवत रहलीं ह सपनवो में.... मंदिरिया राऊरे

तब से पुजेली चरणिया आ के दुवरिया राऊरे...२


दिल्ली गईलीं बम्बई गईलीं

बड़े बड़े शहरिया में

निक तनिको लागल मैय्या

धरती नाही बदरिया में


भैया लिखलें अमित जी ....२भजनिया राऊरे हो

तब से गावेलीं इ सोनल आ के दुवरिया राऊरे

तब से पुजेली चरणीयां आ के दुवरिया राऊरे

हो मैय्या पुजेलीं चरणिया आ के दुवरिया राऊरे...


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract