We welcome you to write a short hostel story and win prizes of up to Rs 41,000. Click here!
We welcome you to write a short hostel story and win prizes of up to Rs 41,000. Click here!

Neeraj pal

Abstract


4  

Neeraj pal

Abstract


राम नाम

राम नाम

1 min 255 1 min 255

रे मन!राम नाम जप लीनो,

भला उसी का है इस जग में,जाने जतन से कीनो।।

नाम की महिमा "राम" ही जानै,कोटिन पाप हर लीनो।।

जन्म-जन्म की पाप की गठरी,पल में हल्की कीनो।।

भरा अनेकों बिषयों से मन था,अमृत से भर दीनो।।

भोग-विलास में जीवन बीता,अब तो सुधि-बुधि लीनो ।।

तुम्हरे नाम से पत्थर तैरें,मुझ पर भी कृपा कीनो।।

तुम तो हो घट-घट के वासी,"नीरज" को सफल कर दीनो।।



Rate this content
Log in

More hindi poem from Neeraj pal

Similar hindi poem from Abstract