Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Sagar Mandal

Inspirational


5.0  

Sagar Mandal

Inspirational


'परमवीर '

'परमवीर '

1 min 420 1 min 420

विक्रम बात्रा नाम था उसका बहादूरी का पाठ उसने पाराया था,

शरिर में धाव लेकर उसने पांच टूशमन को मार गिराया था,


श्रीनगर- लेह मार्ग के चोटी पर उसने भारत का तिरंगा लहराया था,

ऐसे ही नहीं वह शेरशाह कहलाया था,


'दिल मांगे मोर' का नारा लगाकर उसने दुशमन को मार भगाया था

देश को सर्वच्च बलिदान देकर बह करगिल का परमवीर कहलाया था।


अपने माँ से दूर होकर उसने भारत माँ को बचाया था,

ध्यन्य हे वो माँ जिसने ऐसा पुत्र पाया था,


शहादत का ताज उसने अपने परिबार को पहनाया था,

ऐसे वीरो को देखकर दुशमन भी घबराया था,


 सलाम हे उन शहीदों को जो तिरंगे मैं लिपटकर अपने घर आया था।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sagar Mandal

Similar hindi poem from Inspirational