Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

अजय केशरी

Abstract


2  

अजय केशरी

Abstract


परिंदा

परिंदा

1 min 216 1 min 216

उन्मुक्त गगन में उड़ने दो,

उड़ने दो इन परिंदों को !

आज़ाद हुए है पिंजरे से,

उड़ान अभी है नई-नई !


अभी वक़्त लगेगा उड़ने में,

सीख जाएंगे ये उड़ना फिर !

ज़रा देखो इनकी उड़ान को,

नहीं थकते हैं कभी उड़ने से !


इन्हें आसमान को छूने में,

नहीं डिगता इनका लक्ष्य कभी !

उड़ने दो इन परिंदों को,

नहीं पिजरे में अब क़ैद करो


Rate this content
Log in

More hindi poem from अजय केशरी

Similar hindi poem from Abstract