Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Renuka Chugh Middha

Abstract

2  

Renuka Chugh Middha

Abstract

नूर खुदा का

नूर खुदा का

1 min
97



  


इक चाँद धीरे -धीरे कहीं गहरे उतर रहा है मुझमे ,


इक वक़्त का ठहरा दरिया सिमट रहा है मुझमे , 


यूँ छलक रही है चाँदनी मेरे हर इक रोम -रोम में , 


उस ख़ुदा का नूर बिखर रहा हो जैसे ,बेखबर सा मुझमें ।।



Rate this content
Log in