Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Ranjana Mathur

Abstract

3  

Ranjana Mathur

Abstract

ममता

ममता

1 min
264


वह छोटी चिड़िया

कर रही थी जतन

एक अर्से से

तृण-तृण लाती नीड़ बनाती

कभी

तीक्ष्ण झोंंके मलय के

तो कभी

बालक वृंद बिखेर देते

उस के घोंंसले को

तब वह

छोटी चिड़िया

गर्दन को टेेढ़ी कर

चीं-चीं चिल्ला कर

करती प्रतिवाद

होते ही माहौल के शांत

वह फिर आती

तृण-तृण उठाती

नीड़ बनाती

संतति प्रेम के वशीभूत

भविष्य के स्वप्न संजोए

वह नन्ही मााता

कर रही पूरी शिद्दत के साथ

बारम्बार नीड़ निर्माण

थक गए हम तकते-तकते

किन्तु दायित्व के

बोझ तले ममता की धुन में

करती रही वह

पुनःः पुनः नीड़ निर्माण

न थकी कर निढाल होती ममता

न ही होती हताश

संतान के प्रेम के लिए

हर माँ

कर सकती है

एक धरती और आकाश।



Rate this content
Log in