FEW HOURS LEFT! Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!
FEW HOURS LEFT! Exclusive FREE session on RIG VEDA for you, Register now!

Sundar lal Dadsena madhur

Inspirational


3  

Sundar lal Dadsena madhur

Inspirational


मेरे देश के वीर जवान

मेरे देश के वीर जवान

1 min 15 1 min 15


सरहद की रक्षा के लिए डटा वीर बलवान है

तन मन जीवन समर्पण करता नौजवान है।

माँ भारती की रक्षा में प्राणों की आहुति देता

देश रक्षा का दृढ़ संकल्प लिए वीर जवान है।


देशभक्ति की ज्वाला धधकती सीने में तूफान है।

अखंडता का दीप जलाता,शौर्यता की पहचान है।

राष्ट्रहित ही सर्वोपरि सीमा के सिपाही के लिए

प्राण पुष्प अर्पित करता,माँ भारती की संतान है।


सीमा का सिपाही,देशभक्त,वीर जवान है

बाधाएं कितनी भी आए, देता हर इम्तिहान है।

बाढ़,सूखा,भूकंप,महामारी या हो युद्ध की तैयारी

हर मुश्किल से डटकर लौहा लेता मेरा वीर जवान है।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Sundar lal Dadsena madhur

Similar hindi poem from Inspirational