Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

माटी की कसक

माटी की कसक

2 mins
195


अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है

जब भी आए याद आँख खुद नम हो जाती है

बरस कई बीते है फिर भी कसक सताती है

अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है


हरियल चने के खेत में जाकर बूट तोड़ के लाना

लहसुन मिर्च की चटनी के संग भुट्टे भून के खाना

उन सौंधे भुट्टों की खुशबू, आज भी आती है

अब भी मेरे गाँव की माटी, मुझे बुलाती है


आमों के बागों में जाकर, छुप-छुप आम चुराना

नून मिर्च और संगिन के संग, चटकारें ले खाना

खट्टी अमिया की खट-मिट्ठी, याद सताती है

अब भी मेरे गाँव की माटी, मुझे बुलाती है


भोर भए बापू के संग-संग, रोज़ खेत पे जाना

ऊषा की लाली में शीतल पवन झकोरे पाना

ओस में भीगी घास की सिहरन, आज भी आती है

अब भी मेरे गाँव की माटी, मुझे बुलाती है


खेत जोतते बाबा की वो आशा भरी निगाहें

माथे से झर, झर झर बहते पसीने की बरसातें

भीगे हुए गमछे की, खुशबू आज भी आती है

अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है


माँ का दुलराना, झिड़कना और प्यार से मनाना

दाल भरी मीठी रोटी पे, धी की परत चढ़ाना

प्यार की वो बरसातें अब भी मुझे भिगाती है

अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है


बरसों बाद जो गाँव गया तो गाँव हो गया गुम

गाँव की हद में मॉल-महल को देख के मैं गुमसुम

मॉल में दबी सिसकती माटी कराह सुनाती है

अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है


खाट से लगे माँ बापू ने, रो- रो के हमें बताया

न तो मिली जमीन और, न रुपया हमने पाया

लोगों की साजिश आँखों से, लहू बहाती है

अब भी मेरे गाँव की माटी मुझे बुलाती है


Rate this content
Log in