Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Vijay Kumar उपनाम "साखी"

Inspirational

2  

Vijay Kumar उपनाम "साखी"

Inspirational

कर्म

कर्म

1 min
104


जिंदगी को जीने के अपने-अपने बहाने है

पाता वहीं कोहिनूर संघर्ष करना जाने है

इस बात को सब अच्छी तरह से जाने है

बिना श्रम के न बनते मंज़िल के अफसाने है

नसीब भी उसी का साथ देता है, यहां साखी,

जिसके हृदय बजते है, हर पल कर्म के गाने है

इस जिंदगी को जीने के अपने-अपने बहाने है,

कर्म बिना फल की इच्छा ये मूर्खों के तराने है



Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational