Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Dr_Bhãgyshree Saini

Inspirational

4.3  

Dr_Bhãgyshree Saini

Inspirational

ज्ञान के सागर

ज्ञान के सागर

1 min
368


आंखों में सूरज सी रोशनी,

होठों पर है जिनके मधुर सी 

मुस्कान।

जिसका मन कुछ नया ,

करने की चाह है रखता।

वो हैं गुरुदेव आप....

हर पल दोस्ताना रखा जिसने,

सबके दिलों को छुआ जिसने।

वो हैं गुरुदेव आप....

करुणामय वो शब्द आपका ,

मुस्कुराते रहो है कितना प्यारा।

खुशियों की सौगात अपनी 

मुट्ठी में भर कर ,

सपनों को साकार करने का

 हौसला दिलाया।

जिसका मन है रहता 

नदी की तरह पवित्र सदा

वो हैं गुरुदेव आप........

है मुझको मालूम अंधेरों में ,

दीयों कि लोह है लहलाती।

है मुझको मालूम अंधेरों के ,

ऊपर जलती है बाती।

आप के अपार ज्ञान ने सबके  

अंधेरों को मिटाया।

उजाला किया जिसने सबके चेहरों पर।

वो हैं गुरुदेव आप !


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational