Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

ज़िंदगी

ज़िंदगी

1 min 7.3K 1 min 7.3K

ज़िंदगी ने कहा ,

देख तू हार गया !

मैं जीत रही हूँ ।।

मैंने कहा ,

अभी तो साँसे बाक़ी है !!

ऐ ज़िंदगी !!!तेरा इम्तिहान भी तो अभी बाक़ी है ।।

ज़िंदगी ने कहा ,

देखती हूँ कितना और लड़ेगा तू !!

मुश्किलों का वक़्त अभी बाक़ी है ।।

मैंने कहा ,

देख लेना सब हँस के सह जाऊँगा मैं ,

जीतने का जज़्बा अभी मुझमें बाक़ी है ।।

ज़िंदगी ने कहा ,

छीन लूँगी तेरी ये मुस्कान !!

की तुझ पे अभी ग़मों का साया बाक़ी है !!

मैंने कहा ,

छीन सके मेरी मुस्कान इतना तुझ में दम नहीं !!

अभी तो तुझे मेरी ज़िंदादिली देखना बाक़ी है ।।

फिर ज़िंदगी ने कहा ,

रोने वाले को कुछ नहीं मिलता यहाँ !!

हँसने वालो के क़दमों में होता है ये जहाँ ।।।

#positiveindia


Rate this content
Log in

More hindi poem from Dr.Sanjay Yadav

Similar hindi poem from Inspirational