Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!
Unlock solutions to your love life challenges, from choosing the right partner to navigating deception and loneliness, with the book "Lust Love & Liberation ". Click here to get your copy!

Harish Bhatt

Abstract

3  

Harish Bhatt

Abstract

दुश्मनी

दुश्मनी

1 min
85


आओ चले

दुश्मनी का

एक बीज बोएं

बहुत देख लिया

प्यार की छांव में रहकर

न प्यार चढ़ा परवान

न ही पुख्ता हुई दुश्मनी

यूं ही चिढ़ते रहें

कभी अपने से

तो कभी उनसे

प्यार की आड़ में

छुरे खूब घोंपे गएं हैं पीठ में

न आजमाओ मुझे

दुश्मनी का

बीज बो आया हूं.

न लो सब्र का इम्तिहान

जिंदगी बीत जाएगी

मेरी थाह लेते-लेते!


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Abstract