Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF
Click here to enter the darkness of a criminal mind. Use Coupon Code "GMSM100" & get Rs.100 OFF

Shyam Kunvar Bharti

Inspirational


3  

Shyam Kunvar Bharti

Inspirational


दियवा जराई जी

दियवा जराई जी

1 min 183 1 min 183

आईल दिवाली घरे दियवा जराई जी

गईया के गोबरा से दुअरा लिपाई जी

घरवा के संगवा मनवा के गंदगी

दुख दुर्भिक्षवा अब बहरा भगाई जी।


होखे ना चाही केहुके घरवा अनहरिया

दिअवा के जगमग उगावा अंजोरिया

रोवत लइकवा दे फुलझरिया हँसाई जी

आपन पराया इहवा केहु ना होला।


मिली घरवा सजावा मनवा गांठ खोला

करा दूर दुख दुखिया बड़ा दिलवा दिखाई जी

होई उजियारा खाली तोहरे महलिया

जरी काहे नाही दिअवा मोरे झोपड़िया।

मने देशवा सगरो दिवाली जतन कराई जी

जरे कही दिअवा कही दिलवा ठीक नईखे

खाये कही मिठाई कही भुखल ठीक नईखे

रहे नाही केहु बाकी सबके खिआई जी।

भरल पुरल रहे सबकर कोठरिया मे

सुख शांति रहे मोरे भारत नगरिया मे

दिवाली दिलवा से दिलवा मिलाई जी।


Rate this content
Log in

More hindi poem from Shyam Kunvar Bharti

Similar hindi poem from Inspirational