Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer
Become a PUBLISHED AUTHOR at just 1999/- INR!! Limited Period Offer

Saumya Singh

Inspirational

4  

Saumya Singh

Inspirational

आत्म प्रेरणा

आत्म प्रेरणा

1 min
151


नहीं डिगो तुमनहीं झुको तुम

नहीं करो तुम जीवन मोह

लहू है जबतक साँस है तब तक

पथ पर चलते जाना हैमानव रूप में जन्म लिया


कुछ करके तुम्हे दिखाना है

मौत से डरना छोड़ो तुमजीवन तो आना जाना है

कम होता है जीवन जब सब कुछ मन का होता है।

मझढार में कैसे लड़ोगे तुम ये तुमपर निर्भर करता है।


हारो तुम या हो असफल आशा की लौ नहीं बुझना है।

कितनी भी लम्बी हो रात

आखिर सूरज को उगना है।

समय को रोक सका है कौन ? 


तुम्हें उससे आगे बढ़ना है

नहीं पूछता उन्हे कोईजो पीछे ही रह जाते हैं

पर चिन्ह उन्ही के बनते हैं

जो सबसे आगे जाते हैं।


Rate this content
Log in

Similar hindi poem from Inspirational